सावन शनिवार को शनि पूजा का संयोग

6 अगस्त को सावन का आखिरी शनिवार रहेगा। पुराणों में इस दिन को शनि पर्व भी कहा गया है। शिवजी पूजा के इस महीने में आने वाले शनिवार को शनि देव की पूजा करने और जरुरतमंद लोगों को दान देने से शनि देव के अशुभ असर में कमी आने लगती है। अभी शनि अपनी ही राशि यानी मकर में है। इस संयोग में की गई पूजा और दान का पुण्य फल भी और बढ़ जाएगा।

इस शुभ योग में शिव पूजा भी विशेष फलदायी रहेगी। इस दिन जरुरतमंद लोगों को कपड़े, जूते-चप्पल या अन्य जरूरी चीजों का दान देने से शनि दोष में कमी आती है। शनिवार को शुक्ल, शुभ और रवियोग रहेगा। जिससे इस शुभ संयोग में किए गए कामों में सफलता मिलने की संभावना और बढ़ जाएगी।

क्यों खास है सावन का शनिवार
सावन महीने में सोमवार के अलावा शनिवार को भी पुराणों में बहुत खास बताया है। इस दिन शनि देव के अलावा हनुमानजी और भगवान नृसिंह की पूजा का भी विधान है। स्कंद पुराण में कहा है कि सावन महीने में आने वाले शनिवार को इन तीन देवताओं की पूजा से हर तरह की परेशानियां दूर होती हैं। इस दिन तेल से हनुमानजी और शनिदेव का अभिषेक करना चाहिए। वहीं, भगवान नृसिंह की विशेष पूजा के बाद ब्राह्मणों को तिल से बना भोजन करवाने से मनोकामना पूरी होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.