इंदौर की जियाना को दादा साहेब फालके आइकॉन अवॉर्ड

इंदौर की 7 सात की जियाना शाह ने शहर और प्रदेश का नाम रोशन किया है, साथ ही हमउम्र बच्चों के बीच अपनी अलग पहचान भी बनाई है। जियाना को हाल ही में दुबई में दादा साहेब फालके आइकॉन अवॉर्ड (बेस्ट चाइल्ड प्रोडिजी) से सम्मानित किया गया है। जियाना को 195 देशों से जुड़ी 7 अहम चीजें कंठस्थ हैं। इसमें उन देशों के फ्लैग का रंग, उनकी डिजाइन, वहां की करंसी आदि शामिल हैं। इसी के चलते जियाना का नाम वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स लंदन में दर्ज किया गया है।

इंदौर के डेली कॉलेज स्कूल में सेकंड क्लास में पढ़ने वाली जियाना को 24 जनवरी 2022 को अमेरिकन यूनिवर्सिटी ने ह्यूमन जियोग्राफी में डॉक्टरेट की उपाधि दी है। इस उम्र में यह उपाधि पाने वाली वह पहली बच्ची हैं। वहीं से आर्गनाइजेशन को पता चला और उन्होंने जियाना की प्रोफाइल भी बुलवाई। बच्ची के पिता मयंक शाह ने बताया उन्होंने जियाना और हमसे कुछ प्रश्न-उत्तर पूछे। उनके बोर्ड ने जियाना के पक्ष में डिसीजन दिया। इससे पहले अक्टूबर 2021 में 6 साल की उम्र में जियाना ने अलग-अलग देशों की यही जानकारियां 9 मिनट 31 सेकंड 82 मिली सेकंड में बताकर वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स लंदन में अपना नाम दर्ज कराया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.