नागपंचमी पर उज्जैन के भगवान नागचंद्रेश्वर के दुर्लभ दर्शन

नागपंचमी पर उज्जैन के भगवान नागचंद्रेश्वर मंदिर में दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है। मंगलवार दोपहर तक 3 लाख से ज्यादा लोग भगवान नागचंद्रेश्वर के दर्शन कर चुके हैं। रात 12 बजे तक मंदिर के पट खुले रहेंगे। बता दें कि भगवान महाकाल मंदिर परिसर में स्थित नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट साल में एक ही बार नागपंचमी पर खुलते हैं।

महाकालेश्वर मंदिर के मुख्य शिखर के तीसरे खंड पर स्थित भगवान श्री नागचन्द्रेश्वर मंदिर के पट सोमवार मध्यरात्रि पर खुल गए। सबसे पहले महाकालेश्वर मंदिर स्थित श्री पंचायती महानिर्वाणी अखाड़े की ओर से त्रिकाल पूजन किया गया। इस दौरान प्रशासनिक अधिकारी भी मौजूद थे। मंत्री मोहन यादव और कमल पटेल ने भी नागचंद्रेश्वर भगवान का अभिषेक किया। ये मंदिर साल में केवल एक बार नागपंचमी पर ही खुलता है। सिर्फ इसी दिन मंदिर की दुर्लभ प्रतिमा के दर्शन आम श्रद्धालुओं को होते हैं।

नागचंद्रेश्वर मंदिर में दर्शन के लिए सोमवार देर शाम 7 बजे से ही श्रद्धालुओं की कतार लग गई थी। मंदिर के पट 24 घंटे तक यानी मंगलवार रात 12 बजे तक खुले रहेंगे। इस दौरान लाखों श्रद्धालुओं के पहुंचने का अनुमान है। भारतीय पंचांग तिथि अनुसार श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी के दिन ही मंदिर के पट खुलने की परंपरा प्राचीनकाल से चली आ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.