लेनदार हमारे घर पर ‘कुर्की’ के लिए आते थे

अमिताभ ने बताया था कि उन पर अलग-अलग लोगों का 90 करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज था। वह कहते हैं, “मैंने दूरदर्शन सहित सभी का भुगतान किया। जब उन्होंने इंटरेस्ट कंपोनेंट मांगा, तो मैंने उनके बदले कमर्शियल ऐड्स किए। मैं यह कभी नहीं भूल सकता कि कैसे लेनदार हमारे दरवाजे पर खड़े रहते थे, गाली देते थे, धमकी देते थे, मांग करते थे और इससे भी बदतर जब वो हमारे घर पर ‘कुर्की’ के लिए आते थे।”

अमिताभ ने आगे बताया, “इसमें कोई शक नहीं है कि यह मेरे 44 साल के प्रोफेशनल करियर का सबसे खराब पलों में से एक था। इसने मुझे बैठने और सोचने पर मजबूर कर दिया था, मैंने अपने सामने ऑप्शन्स को देखा और कई दृश्यों को इवेलुएट किया। जवाब आया कि मुझे एक्टिंग करना आता है। मैं उठा और यशजी (फिल्म निर्माता) के पास गया, जो मेरे घर के पीछे रहते थे। मैंने उससे विनती की कि वह मुझे काम दे दें। उसके बाद से ही सब पलट गया, उन्होंने मुझे फिल्म ‘मोहब्बतें’ दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *