यज्ञ में आहुति डालने वाले बयान पर ‘तर्क’

मुझे नहीं लगता कि आजादी के बाद से हजारों साल की गुलामी में… हम में से किसी ने भी वेदों को ठीक से पढ़ा है। जिन्होंने वेदों को पढ़ा है, वे जानते हैं… आप अथर्व वेद का अध्याय-2, सर्ग 31.. निकालिए। उसमें लिखा है, जब-जब महामारियों ने दुनिया को घेरा, तब किस प्रकार से हमारे लोगों ने उससे बचाव किया। कोरोना से बचने के लिए यज्ञ में सभी को आहुति डालने वाले बयान पर उठ रहे सवाल जवाब में कैबिनेट मंत्री उषा ठाकुर ने यह बात गुरुवार को कही।

उन्होंने कहा, वर्तमान की बात करूं, तो आप भी मेरी बात से सहमत होंगे। जब मलेरिया फैलता है, तो हम क्लोरोक्वीन देते हैं, इंजेक्शन लगाते हैं। इसके अलावा, हम धुएं के लिए भी तो कहते हैं। शहर में फाॅगिंग भी करवाया जाता है। हम यह फाॅगिंग कीटाणुओं को नष्ट करने और मच्छरों मारने के लिए करते हैं। इसमें कुछ केमिकल मिला हाेता है। ठीक उसी तरह, यज्ञ का फाॅगिंग औषधियों का है। वाे औषधि सांसाें के जरिए रक्त में समाहित हाेती है। राेग प्रतिराेधक क्षमता बढ़ाती है। वातावरण स्वच्छ करती है। आज काेराेना की एक बड़ी वजह प्रदूषित वातावरण भी है। उन्हाेंने कहा कि हमें किसी समस्या के जड़ से समाधान पर नहीं जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *