बांग्लादेश का इंजेक्शन इंदौर में बिक रहा था

बांग्लादेश में कोरोना संक्रमित को लग रहे इंजेक्शन इंदौर में महंगे दामों पर बिक रहे हैं। ऐसे ही एक युवक को क्राइम ब्रांच की टीम ने सांवेर पुलिस के साथ मिलकर पकड़ा है। पकड़े गए युवक टीपू सुल्तान से क्राइम ब्रांच ने उक्त इंजेक्शन 17 हजार रुपए में खरीदना तय किया था। वैसे इस रेमडेसिविर की कंपनी कीमत करीब 3 हजार रुपए है। बरामद रेमडेसिविर बांग्लादेश की Incepta Pharmaceuticals lim. कंपनी के द्वारा बनाई गई है। Ninavir Remdesivir नामक इस इंजेक्शन की यहां जमकर कालाबाजारी की जा रही थी। पुलिस जांच कर रही है कि बंग्लादेश का इंजेक्शन इनके पास कैसे पहुंचा।

ब्रांच एएसपी गुरू प्रसाद पाराशर के अनुसार रेमडेशिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी और अवैध बिक्री पर लगाम लगाने के मकसद से लगातार ऐसे लोगों पर कार्रवाई की जा रही है। सांवेर पुलिस को सूचना मिली थी कि क्षेत्र में तीन व्यक्ति रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करते हुए अवैध बिक्री की फिराक में घूम रहे हैं। इस पर क्राइम ब्रांच की टीम ने सांवेर पुलिस के साथ मिलकर प्लानिंग की और उन्हें पकड़ने के लिए उख खरीदार बनकर उसने संपर्क किया। जैसे ही ये लोग पुलिस से मिले, इन्हें दबोच लिया गया।

इन्होंने अपना नाम 29 वर्षीय टीपू पिता अनवर खान निवासी स्कीम नंबर – 78, 23 वर्षीय शाहरुख पिता यूसुफ शाह निवासी ग्राम कजलाना और 23 वर्षीय जफर पिता कुदुस खान निवासी वार्ड क्रमांक -7 बताया। पुलिस ने इनके कब्जे से एक रेमडेसिविर इंजेक्शन बरामद किया, जिसकी कीमत करीब 3 हजार रुपए है। ये इसे 17 हजार रुपए में क्राइम ब्रांच की टीम को बेचने जा रहे थे। खंडेलवाल तिराहा सांवेर पर जैसे ही इन्होंने इंजेक्शन दिखाए। पुलिस ने इन्हें दबोच लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *