फाइजर के लिए मप्र का तापमान उपयुक्त नहीं, स्पूतनिक के डोज बुलवाएंगे

CM शिवराज सिंह चौहान ने कार्पोरेट लीडर्स से वर्चुअल बैठक में कहा कि फाइजर के लिए मप्र का तापमान उपयुक्त नहीं, स्पूतनिक के डोज बुलवाएंगे। विदेशी वैक्सीन लाने के प्रयास करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार को 50% वैक्सीन का कोटा मिला है। इसमें से 25% हिस्सा प्राइवेट अस्पताल व कार्पोरेट सेक्टर के लिए रिजर्व किया गया है। इसके लिए मप्र सरकार एक सिस्टम तैयार कर रही है कि कार्पोरेट सेक्टर को किस तरह से वैक्सीन उपलब्ध कराई जाए। कार्पोरेट सेक्टर को यह वैक्सीन खरीदना पड़ेगी। सरकार की कोशिश है कि प्राइवेट सेक्टर भी वैक्सीन खरीदकर अपने कर्मचारियों को लगवाए। उन्होंने कहा कि यदि जरुरत पड़ती है तो ग्लोबल टेंडर भी करेंगे। वैक्सीनेशन के लिए टास्क फोर्स बनाने की जरुरत होगी तो बनाएंगे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान गुरुवार को इंदौर पहुंचे। इंदाैर एयरपाेर्ट से सीधे कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर कोरोना की स्थिति, इलाज और इंतजामों की समीक्षा की। वे शाम को भोपाल रवाना होंगे। सीएम ने इस दौरान मीडिया से बात नहीं की। कलेक्टोरेट में पूर्व मंत्री जीतू पटवारी भी सीएम के पहुंचने के बाद पहुंच गए।

मुख्यमंत्री के आगमन पर कोरोना नियमों का पालन कराने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई। कलेक्टर कार्यालय में आमंत्रितों के अलावा किसी को भी प्रवेश नहीं दिया गया। मीटिंग का पूरा कवरेज सिर्फ सरकारी इंतजाम से ही होगा। बैठक स्थल में उन अधिकारियों को भी प्रवेश नहीं मिला, जिनकी वहां पर आवश्यकता नहीं है। बैठक पूरी तरह से सोशल डिस्टेंसिंग के साथ हो रही है।

सीएम से मिलने के इंतजार में एक परिवार लगभग तीन घंटे से कलेक्टोरेट के पास में बैठा है। इस परिवार में बड़े भाई नितिन जैन (40) ब्लैक फंगस से पीड़ित है। परिवार के संदीप जैन, पदमा जैन अपने बच्चों प्रथम और प्रणीत के साथ बैठे है। इसमें प्रणीत तो न चल पाता है और न बोल पाता है। परिवार ने कहा कि हम सीएम से मिलकर ही जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *